Shri Krishna janmashtami 2021

 


बड़े ही खूबसूरत हैं।
तेरे एहसास के धागे,
बंधे रहते हैं तुमसे,बिना बाँधे।



ना नेट है ना डाटा हैं।
       ना बही है ना खाता है।
फिर भी सबके कर्मो का,
        पाई पाई हिसाब चुकाता हैं।



भूल जाते है हम सब कुछ आपके सिवा, यह क्या मुझे हुआ है।
          
क्या इसी एहसास को दुनिया ने इश्क़ का नाम दिया है।



राधा कृष्ण सा अपना
ये ISHQ है।
अपना साथ जिंदगी भर
के लिए FIX है।


राधा कृष्ण जैसा तेरा मेरा
इश्क है।
उनकी तरह साथ ना हो पाए
किस बात की फिक्र है।












एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ