Heart broken Shayari


मैंने तुझसे प्यार किया,
तूने सिर्फ व्यापार किया।
अपनी बेवफाई के खंजर को,
मेरे मोहब्बत के दिल से पार किया।



मुझे सोने का बोल कर,
तुम ऑनलाइन रहा करते हो।
सच बताना मेरे साथ टाइम पास और,
प्यार किसी और से किया करते हो।




मेरे हक की मोहब्बत,
किसी और पर लूटाने लगे हो।
सच बताना तुम्हें मुझसे प्यार नहीं था ना,
इसलिए मुझसे दूर तुम जाने लगे हो।




हमारे दर्दो से वह अनजान थे।
दिल में बहुत गहरे घाव थे,
उनको तो उस वक्त भी फ़िक्र न हुई,
जब लोग ले जा रहे मुझे शमशान थे।



उससे प्यार में हमेशा करता रहा,
मैं खड़ा था मौत के दरवाजे पर और वो किसी,
उसके साथ मेरी हालत पर हंसता रहा।



तेरे इश्क में मुझे सबसे जुदा किया,
आज जब मुझे तेरी जरूरत पड़ी,
किसी के खातिर मुझको भुला दिया।





उसके झूठ से पर्दा कभी गिरा नहीं,
प्यार क्या है ये भी उसे पता नहीं,
और तुम कहते हो मुझे मर जाना चाहिए,
मैंने मोहब्बत की है कोई गुनाह नहीं।


अब तक रूठी हुई हो मुझसे,
तुम्हें मनाने में सारा वक़्त गुजर रहा है।
मैं तो आज भी खड़ा हूं वहीं खड़ा हूं,
पर तुम्हारा रास्ता बदल रहा है।



मोहब्बत का वह किस्सा अधूरा रह गया।
उन्हें मनाने में वक्त लग गया इतना की,
जिंदगी का यह सफर पूरा हो गया।



मेरी मोहब्बत का किस्सा,
इस कदर खत्म हुआ।
जिस दिन मैं खामोश था,
और मेरा शरीर जमीन में दफन हुआ।



उनकी आंखें नम दिल परेशान है।
अब क्यों पूछती हो पता मेरा,
मेरा घर तो अब शमशान है।






सोए थे सदियों से जमीन के अंदर,

उठ गए अचानक,

 कानो में जब तेरा नाम आया।

उठा तूफान तेरी यादों का,

 मेरे मरने के बाद भी,

जब मेरी कब्र पर रोने तू आज आया।



 इस बार मैंने छोड़ा तुझे,
अब तू ढूंढ मुझे,
मै तो चला अब चला गया।
मिल गया सुकून तुझे।


आज फिर किसी बहाने,
उनका दीदार हुआ।
तीखी खंजर सी निगाहों का,
दिल पर वार हुआ।



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ