Tea,Tea shayari,Tea lover,chai shayari

Tea shayari,tea shayari image,tea shayari in Hindi,



वो खामिया वो गलत फहमिया

सब को भुलाया जाए,

चलो आज किसी बहाने से,

उन्हें चाय पे बुलाया जाए।


चाय में अदरक की भी इज्जत है

हर किसी के लिए नही डाली जाती।




बैठिए कभी हमारे साथ।

 सुबह से शाम तक, 

कुछ पुरानी यादों के साथ।

 एक कप चाय हो जाए।



 
चाय सी जिन्दगी है,
   दिन भर की उबाल है, 
               अदरक से दोस्त हैं।
             उन्ही से तो स्वाद है।



जब पिलाने वाले के,

 दिल में मिठास होती है।

चाय कितनी भी फीकी हो,

झक्कास होती है।




एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ